ब्रह्मपुत्र नदी तंत्र : भारत के अपवाह तंत्र

ब्रह्मपुत्र नदी तंत्र

ब्रह्मपुत्र नदी दुनिया की बड़ी नदियों में से एक है।

उद्गम

तिब्बत में कैलाश पर्वत श्रेणी में मानसरोवर झील के पास चेमायुंगडुंग ग्लेशियर से इसका उद्गम हुआ है।

दिशा

ब्रह्मपुत्र अपने उद्गम से लगभग 1200 किमी दूरी तक तिब्बत के समतल मैदान में पूर्व में बहती है। मध्य हिमालय में नामचा बरवा के निकट एक गहरे महाखड्ड (गार्ज) का निर्माण करती हुई तेज बहाव वाले नदी के रूप में निकलती है। एक तीखा मोड़ लेकर यह नदी अरुणाचल प्रदेश में सादिया कस्बे के पश्चिम में भारत में प्रवेश करती है। ब्रह्मपुत्र यहां से दक्षिण पश्चिम दिशा में बहती है। असम घाटी में 750 किमी बहने के बाद ब्रह्मपुत्र नदी बांग्लादेश में प्रवेश करती है। बांग्लादेश में ब्रह्मपुत्र दक्षिण दिशा में बहती है।

प्रवाह-क्षेत्र

ब्रह्मपुत्र चीन (तिब्बत), भारत और बांग्लादेश तीन देशों में प्रवाहित होती है। भारत में यह अरुणाचल प्रदेश और असम राज्यों में बहती है।

विविध नाम

ब्रह्मपुत्र को तिब्बत में सांग्पो (त्सांगपो) कहते हैं। अरुणाचल प्रदेश में सिशंग या दिशंग कहते हैं। असम में दिबांग या सिकांग और लोहित नदियों के मिलने के बाद इसका ब्रह्मपुत्र नाम होता है। बांग्लादेश में तिस्ता नदी से मिलने के बाद यह जमुना कहलाती है।

सहायक नदियां

तिब्बत में रागोंसांग्पो दाहिने तट पर मिलने वाली एक प्रमुख सहायक नदी है। प्रदेश में दिबांग या सिकांग और लोहित नदियां इससे बांयी तरफ से मिलती हैं। असम में इसमें बांयी तरफ से बूढ़ी दिहिंग और धनसरी नदियां मिलती हैं जबकि दांए तट पर मिलने वाली सहायक नदियों में सुबनसिरी, कामेग, मानस तथा संकोश है। सुबनसिरी तिब्बत से निकलती है। बांग्लादेश में तिस्ता नदी इसके दाहिने किनारे पर मिलती है। अंत में गंगा नदी की मुख्य धारा जिसे बांग्लादेश में पद्मा कहा जाता है से मिलती है।

विशिष्टताएं

ब्रह्मपुत्र नदी बाढ़, मार्ग परिवर्तन एवं तटीय अपरदन के लिए जानी जाती है। इसकी अधिकतर सहायक नदियां बड़ी हैं। इनके अपवाह क्षेत्र में भारी बारिश के कारण इनमें अत्यधिक मात्रा में अवसाद बहकर आ जाता है इसलिए मैदानी इलाकों में इसका मार्ग अवरूद्ध हो जाने से जलप्रवाह के मार्ग में परिवर्तन होता रहता है।

सुन्दरवन डेल्टा

गंगा (पद्मा) और ब्रह्मपुत्र विश्व का सबसे बड़ा डेल्टा सुन्दरवन डेल्टा बनाती है। 2900 किमी बहने के बाद ब्रह्मपुत्र नदी बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

प्रवाह की मात्रा के हिसाब से ब्रह्मपुत्र भारत की सबसे बड़ी नदी है लेकिन भारत में सबसे अधिक लंबी दूरी तक बहने वाली नदी गंगा है।

सार-संक्षेप

ब्रह्मपुत्र नदी

उद्गम – चेमायुंगडुंग ग्लेशियर तिब्बत (चीन)।

स्थानीय नाम :

सांग्पो तिब्बत
दिशंग अरुणाचल
ब्रह्मपुत्र असम
जमुना बांग्लादेश

 

प्रवाह क्षेत्र :- चीन(तिब्बत), भारत (अरुणाचल प्रदेश तथ असम) और बांग्लादेश।

दिशा :- पूर्व (तिब्बत में), दक्षिण पश्चिम (भारत में) तथा दक्षिण (बांग्लादेश में)।

सहायक नदियां :-

ब्रह्मपुत्र की सहायक नदियां

  • बांग्लादेश में बंगाल की खाड़ी में गिरती है।
  • इससे पहले गंगा के साथ सुंदरवन डेल्टा बनाती है।
  • सबसे बड़ा नदी द्वीप माजुली ब्रह्मपुत्र में असम में है।
  • अपवाह की दृष्टि से भारत की सबसे बड़ी नदी है। भारत में सबसे लंबी गंगा है।
  • लंबाई – 2900 किमी।

दोस्तों के साथ शेयर करें

1 thought on “ब्रह्मपुत्र नदी तंत्र : भारत के अपवाह तंत्र”

Leave a Comment