भारत का आर्थिक भूगोल

भारत का आर्थिक भूगोल

भारत में फसल उत्पादन

  • विश्व में चावल के उत्पादन में भारत का चीन के बाद दूसरा स्थान है।
  • भारत में विश्व का लगभग 20% चावल पैदा किया जाता है।
  • चावल दक्षिण भारत और पूर्वी भारत के लोग का मुख्य भोजन है।
  • गेहूं भी घास प्रजाति का एक अनाज है।
  • गेहूं प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट का अच्छा स्रोत है।
  • भारत विश्व का सबसे अधिक क्षेत्र में गेहूं बोने वाला देश है परन्तु उत्पादन में चीन के बाद दूसरे स्थान पर है।
  • भारत दुनिया में सबसे अधिक पशु संख्या वाला देश है।
  • सबसे अधिक दूध उत्पादन भारत में होता है।
  • बाजरे के उत्पादन में भी भारत प्रथम है।
  • जूट का सबसे अधिक उत्पादन भारत में ही होता है।
  • आम, केले और पपीते के उत्पादन में भी भारत प्रथम स्थान पर है।
  • चाय उत्पादन में भारत का स्थान दूसरा है। पहले स्थान पर चीन है।
  • भारत गन्ने का दूसरा बड़ा उत्पादक देश है। पहले स्थान पर ब्राजील है।
  • जूट के उत्पादन में भारत पहले स्थान पर है।

मुख्य फसलें और उनके उत्पादक राज्य

क्रमांक फसल/अनाज मुख्य उत्पादक राज्य
1 कुल अनाज उत्तर प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश।
2 चावल पश्चिम बंगाल, पंजाब, उत्तरप्रदेश।
3 गेहूं उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा।
4 मक्का कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र।
5 ज्वार महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रदेश।
6 बाजरा गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश।
7 जौ उत्तर प्रदेश, राजस्थान, बिहार, पंजाब।
8 दालें मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश।
9 आलू पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार।
10 प्याज महाराष्ट्र, कर्नाटक, गुजरात।
11 मूंगफली गुजरात, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु।
12 सरसों राजस्थान, हरियाणा, मध्यप्रदेश।
13 सोयाबीन मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान।
14 सूरजमुखी कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र।
15 कुल तिलहन मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात।
16 काजू केरल, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश।
17 चाय असम, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु।
18 काफी कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल।
19 गन्ना उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु।
20 काली मिर्च केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु।
21 तंबाकू आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात, बिहार।
22 कपास गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश।
23 जूट या पटसन पश्चिम बंगाल, बिहार, ओडिशा, असम।
24 रेशम कर्नाटक।
25 रबड़ केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक।

 

 

ऋतुओं के आधार पर फसलों के प्रकार

रबी की फसल

  • बुआई – अक्टूबर-नवंबर।
  • कटाई – मार्च-अप्रैल।
  • फसलें – गेहूं, जौ, चना, मटर, सरसों, राई आलू आदि।

खरीफ की फसल

  • बुआई – जून- जुलाई।
  • कटाई – नवंबर- दिसंबर।
  • फसलें – धान, तिलहन आदि।

जायद अर्थात् गरमी की फसल

  • बुआई – मार्च, अप्रैल, मई, जून।
  • कटाई – जून-जुलाई ।
  • फसलें – ग्रीष्म कालीन मूंग, खीरा, ककड़ी आदि गरमी की सब्जियां।

अरहर एक ऐसी फसल है जो खरीफ में बोई जाती है तथा रबी में काटी जाती है।

मक्का ऐसी फसल है जिसे सभी ऋतुओं में उगाया जाता है।

धान मुख्यत: खरीफ की फसल है परन्तु कहीं-कहीं इसका गर्मियों में भी उत्पादन किया जाता है।

नकदी फसल :- ऐसी फसलें जो किसानों द्वारा व्यापार के उद्देश्य से उगाई जाती हैं। जैसे; कपास, गन्ना, तंबाकू, जूट आदि।

झूम खेती

वनवासी क्षेत्रों में की जाती है। इसमें जंगल को काट कर खेती के लायक बनाया जाता है। उस स्थान की उर्वरता कम या समाप्त हो जाने पर किसी दूसरी जगह पर जंगल को काट कर खेती के लायक बनाया जाता है। भारत के पूर्वोत्तर राज्यों में इस प्रकार की खेती की जाती है।

दोस्तों के साथ शेयर करें

5 thoughts on “भारत का आर्थिक भूगोल”

Leave a Comment