भारत के गवर्नर जनरल

भारत के गवर्नर जनरल :

लार्ड विलियम बैंटिक (1828-35)

  • लार्ड विलियम बैंटिक 1828 में बंगाल का गवर्नर जनरल बना।
  • 1835 के चार्टर एक्ट के द्वारा बंगाल के गवर्नर जनरल को भारत का गवर्नर जनरल कहा जाने लगा।
  • इस प्रकार लार्ड विलियम बैंटिक 1835 में भारत का प्रथम गवर्नर जनरल हुआ तथा वह बंगाल का अंतिम गवर्नर जनरल  भी था।
  • लार्ड विलियम बैंटिक ने 1829 में सती प्रथा को प्रतिबंधित किया। इस कार्य में उसे राजा राम मोहन राय से काफी सहयोग मिला।
  • उसने 1830 में बालिका हत्या को भी प्रतिबंधित किया।
  • 1835 में कलकत्ता मेडीकल कॉलेज की स्थापना लार्ड विलियम बैंटिक के द्वारा की गई।
  • मैकाले की सिफारिश पर विलियम बैंटिक ने भारत में अंग्रेजी भाषा को शिक्षा का माध्यम बनाया।

विलियम बैंटिक ने ठगी प्रथा को समाप्त करने के लिए कर्नल स्लीमैन को नियुक्त किया।


चार्ल्स मैटकाफ (1835-36)

लार्ड मैटकाफ ने अपने एक साल के कार्यकाल में प्रेस पर लगे प्रतिबंधों को हटाया; इसलिए मेटकाफ को भारतीय प्रेस का मुक्तिदाता कहा जाता है।

लार्ड आकलैंड (1836-42)

  • पहला आंग्ल-अफगान युद्ध (1839-42) आकलैंड के समय में हुआ।
  • आकलैंड ने कलकत्ता से दिल्ली तक ग्रांड ट्रंक रोड की मरम्मत करवाई।

लार्ड हार्डिंग (1844-48)

  • इसने नरबलि प्रथा पर रोक लगाई।
  • प्रथम आंग्ल-सिख युद्ध (1845-46) हुआ।

लार्ड डलहौजी (1848-56)

  • दुसरा आंग्ल-सिख युद्ध 1848-49 में डलहौजी के समय में लड़ा गया।
  • पंजाब का ब्रिटिश क्षेत्र में विलय कर लिया गया। (1849)
  • विश्व प्रसिद्ध कोहिनूर हीरा महारानी विक्टोरिया को भेजा गया।
  • दूसरा आंग्ल-बर्मा युद्ध हुआ और 1852 में लोअर बर्मा एवं पीगू को अंग्रेजी राज्य में राज्य में मिला लिया गया।
  • शिक्षा संबंधी सुधारों में डलहौजी ने 1854 ईसवी के वुड का डिस्पेच को लागू किया इसके अनुसार जिलों में एंग्लो वर्नाक्यूलर स्कूल, प्रमुख नगरों में सरकारी कॉलेजों, 1857 ईस्वी में तीनों प्रेसिडेंसी यों कोलकाता मद्रास एवं मुंबई में एक-एक विश्वविद्यालय स्थापित किए गए रुड़की का इंजीनियरिंग कॉलेज इसी समय का है।
  • डलहौजी के समय भारत में रेलवे परिवहन और टेलीग्राफ शुरू हुआ भारत में पहली रेलगाड़ी 16 अप्रैल 1853 में मुंबई से ठाणे के बीच 34 किलोमीटर चली।
  • 1854 में नया पोस्ट ऑफिस एक्ट पारित हुआ।
  • भारत में पहली बार डाक टिकट का प्रचालन किया गया।
  • एक अलग से लोक निर्माण विभाग की स्थापना की गई।
  • एक स्वतंत्र लोक सेवा विभाग की स्थापना 1854 में की गई।
  • शिमला को ब्रिटिश भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाई गई।
  • डलहौजी के समय पहली बार सिविल सेवा प्रतियोगिता परीक्षा  शुरू की गई।
  • डलहौजी का शासनकाल उसकी हड़प-नीति के कारण अधिक याद किया जाता है। इस नीति के तहत अंग्रेजी क्षेत्र में निम्नलिखित राज्यों को मिला लिया गया:- सातारा 1848, जैतपुर 1849, संबलपुर, बघाट 1850, उदयपुर 1852, झांसी 1853, नागपुर 1854, करौली 1855 में; जबकि 1856 में कुशासन के आधार पर अवध को ब्रिटिश क्षेत्र में मिला लिया गया।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.