भारत के द्वीप समूह

भारत के द्वीप समूह

भारत के द्वीप मुख्य भूमि के दोनों ओर समुद्र में अनेक द्वीप हैं। द्वीपों का एक समूह बंगाल की खाड़ी में स्थित है। दूसरा द्वीप समूह केरल के मालाबार तट से कुछ दूरी पर अरब सागर में है। बंगाल की खाड़ी के द्वीप समूह को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह कहते हैं जबकि अरब सागर स्थित भारतीय द्वीप समूह को लक्षद्वीप कहा जाता है।

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह

अंडमान निकोबार द्वीप समूह एक संघ शासित प्रदेश है। इसका प्रशासनिक केंद्र पोर्ट ब्लेयर है। पोर्ट ब्लेयर दक्षिण अंडमान में स्थित है। अंडमान द्वीपों के दक्षिण में निकोबार द्वीपसमूह स्थित है। 10 डिग्री चैनल अंडमान और निकोबार द्वीप समूहों को अलग करता है।

निकोबार समूह में तीन द्वीप शामिल हैं; कार निकोबार, लघु निकोबार और वृहत निकोबार द्वीप। भारत संघ का दक्षिणतम भूमि वृहत् निकोबार में इंदिरा पाइंट है। ये द्वीप जलमग्न पर्वत हैं जिनका शिखर समुद्र तल से ऊपर है। वास्तव में ये द्वीप हिमालय के पूर्वी विस्तार हैं।

बैरन द्वीप भारत का एकमात्र जागृत ज्वालामुखी है। बैरन द्वीप अंडमान समूह में है। अंडमान-निकोबार द्वीप समूह सामरिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि निकटतम समुद्री पड़ोसियों बांग्लादेश, म्यांमार, थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर, इंडोनेशिया और श्रीलंका के सामने ये द्वीप हैं।

अंडमान-निकोबार द्वीप अपेक्षाकृत बड़े आकार के हैं। इनकी संख्या भी अधिक है तथा बिखरे हुए हैं।

भूमध्य रेखा के नजदीक होने से यहां की जलवायु विषुवतीय है तथा घने जंगलों से आच्छादित है। यहां पाए जाने वाले जीवों में काफी विविधता है।

लक्षद्वीप समूह

लक्षद्वीप समूह केरल तट के समीप अरब सागर में स्थित है। लक्षद्वीप समूह अंडमान-निकोबार द्वीप समूह की अपेक्षा कम क्षेत्रफल का है। यह द्वीपसमूह महज 32 वर्ग किमी में फैला है। ये द्वीप बहुत छोटे-छोटे हैं। इनमें सबसे बड़ा द्वीप मिनीकाय है जो 4.5 वर्ग किमी क्षेत्रफल का है। कवारत्ती लक्षद्वीप समूह की राजधानी है।

लक्षद्वीप मूंगा द्वीप हैं। इनका निर्माण प्रवाल-भित्ति से हुआ है। प्रवाल सीप प्रजाति का मूंगा बनाने वाला जीव होता है। प्रवालों के शरीर पर घोंघा जैसा कवच या खोल होता है जो कैल्शियम कार्बोनेट से बना होता है। असंख्य मृत प्रवालों से मूंगा द्वीपों का निर्माण होता है।

लक्षद्वीप अपनी जैव-विविधता के लिए भी मशहूर है। पिटली यहां का एक निर्जन द्वीप है जिसमें पक्षी अभयारण्य है।

भारत के द्वीप समूह : सार-संक्षेप

  • अंडमान-निकोबार द्वीप बंगाल की खाड़ी में स्थित है।
  • अंडमान-निकोबार द्वीप समूह भारत के उत्तर पूर्व में स्थित पर्वत श्रृंखला का ही विस्तार है।
  • बैरन द्वीप एक मात्र जीवित ज्वालामुखी वाला द्वीप है।
  • नारकोंडम भी ज्वालामुखी द्वीप है पर जीवित नहीं है।
  • 10 डिग्री चैनल अंडमान को कार निकोबार द्वीप से अलग करती है।
  • भारत का दक्षिणतम बिंदु इन्दिरा पाइंट कार निकोबार में है।
  • लक्षद्वीप समूह अरब सागर में केरल तट के समीप स्थित है।
  • यह मूंगाद्वीप है। प्रवाल भित्ति से बना है।
  • कवारत्ती लक्षद्वीप की राजधानी है।
  • 8 डिग्री चैनल मिनीकाय द्वीप को मालदीव से अलग करती है।
  • 9 डिग्री चैनल कवारत्ती को मिनीकाय से पृथक करती है।
Advertisement

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.