भारत में आर्थिक नियोजन

भारत में आर्थिक नियोजन

  • भारत में आर्थिक नियोजन पूर्व सोवियत संघ से प्रेरित होकर अपनाया गया है.
  • 15 मार्च 1950 को योजना आयोग की स्थापना की गयी.
  • भारत में आर्थिक नियोजन सम्बन्धी पहला विचार एम. विश्वेश्वरैया ने अपनी पुस्तक ‘Planned Economy for India‘ के माध्यम से 1934 में प्रस्तुत किया.
  • बॉम्बे प्लान 1944 में आर्देशिर दलाल की अध्यक्षता वाला आठ उद्योगपतियों के समूह द्वारा सुझाया गया था.
  • 1944 में ही श्रीमन् नारायण द्वारा गांधीवादी योजना प्रस्तुत की गयी.

  • एम. एन. रॉय ने 1945 में जनता योजना (People’s Plan) प्रस्तुत किया.
  • सर्वोदय योजना जयप्रकाश नारायण द्वारा 1950 में प्रस्तुत की गयी.
  • पावर्टी एंड अनब्रिटिश रूल इन इंडिया पुस्तक दादाभाई नौरोजी ने लिखा.
  • इस पुस्तक के माध्यम से भारत से धन के इंग्लैंड पलायन तथा राष्ट्रीय आय के आकलन सम्बन्धी विचार रखे गए.
  • आर्थिक नियोजन समाजवादी अर्थव्यवस्था तथा लोक कल्याणकारी राज्य का एक आवश्यक लक्षण माना गया है.
  • नियोजन समवर्ती सूची का विषय है.
  • योजना आयोग का संविधान में कोई उल्लेख नहीं है. इसलिए यह एक गैर संवैधानिक निकाय था जिसका गठन मत्रिमंडल के संकल्प से हुआ था.
  • योजना आयोग का कार्य देश के संसाधनों का अनुमान लगाकर विकास के लिए कार्य योजना सुझाना था. इस प्रकार योजना आयोग एक परामर्शदात्री संस्था थी.
  • योजना आयोग के प्रथम अध्यक्ष तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु थे.
  • पंचवर्षीय योजनाओं को अंतिम स्वीकृति राष्ट्रिय विकास परिषद् देती थी.
  • राष्ट्रीय विकास परिषद् (NDC) का गठन 6 अगस्त 1952 को हुआ.
  • प्रधानमंत्री इसका पदेन अध्यक्ष होता था तथा समस्त केन्द्रीय मंत्री और राज्यों के मुख्यमंत्री इसके सदस्य होते थे.
  • योजना आयोग का सचिव राष्ट्रीय विकास परिषद् का भी सचिव होता था.

नीति आयोग (National Institution for Transforming India)

  • नीति आयोग (राष्‍ट्रीय भारत परिवर्तन संस्‍थान) 1 जनवरी 2015 को भारत सरकार द्वारा गठित एक नया संस्‍थान है.
  • इसे योजना आयोग के स्‍थान पर बनाया गया है.
  • यह संस्‍थान सरकार के थिंक टैंक के रूप में कार्य करता है. प्रधानमंत्री इसका पदेन अध्यक्ष होता है.
  • नीति आयोग, केन्‍द्र और राज्‍य सरकारों को आर्थिक विकास एवम् नीतियों के संबंध में परामर्श देता है.
  • इसमें आर्थिक मोर्चे पर राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍ट्रीय आयात, देश के भीतर, साथ ही साथ अन्‍य देशों की बेहतरीन पद्धतियों का प्रसार नए नीतिगत विचारों का समावेश और विशिष्‍ट विषयों पर आधारित समर्थन से संबंधित मामले शामिल होंगे.
  • योजना आयोग और नीति आयोग में मूलभूत अंतर है कि पूर्ववर्ती योजना आयोग अत्यधिक केंद्रीकृत था जबकि नीति आयोग राज्य सरकारों के सहयोग से क्षेत्रीय आवश्यकताओं के अनुरूप योजनाओं का निर्माण एवम् क्रियान्वयन करता है.

पंचवर्षीय योजनायें

क्रमांक पंचवर्षीय योजना अवधि दिशा निर्देशक प्राथमिकता लक्ष्य लक्ष्य की प्राप्ति विशेष टीप
1 प्रथम पंचवर्षीय योजना 1 अप्रेल 1951 से 31 मार्च 1956 हेराल्ड डोमर मॉडल कृषि, सिचांई, उद्योग 2.1% 3.6% सामुदायिक विकास कार्यक्रम 2 अक्टूबर 1952 से प्रारंभ
2 द्वितीय पंचवर्षीय योजना 1956-1961 पी. सी. महालनोबिस मॉडल उद्योग 4.5% 4.2% भिलाई, दुर्गापुर, राउरकेला में स्टील प्लांट.
3 तृतीय पंचवर्षीय योजना 1961-1966 जॉन सेंडी और एस. चक्रवर्ती मॉडल आत्मनिर्भरता एवम् कृषि 5.6% 2.84% 1962 में चीन से तथा 1965 में पाकिस्तान से युद्ध और 1965-66 का अकाल
4 योजना अवकाश तीन वार्षिक योजनायें
1966-67
1967-68
1968-69
एम. एस. स्वामीनाथन खाद्यान्न उत्पादन भारत में हरित क्रांति का शुरुआत
5 चतुर्थ पंचवर्षीय योजना 1969-1974 अशोक रूद्र और एस माने मॉडल
गाडगिल रणनीति
स्थिर विकास एवम् आत्मनिर्भरता 5.7% 3.3% 1971 का भारत-पाक युद्ध
6 पांचवीं पंचवर्षीय योजना 1974-1979 डी. पी. धर गरीबी उन्मूलन और रोजगार सृजन 4.4% 4.7% 1978 में जनता पार्टी सरकार द्वारा समाप्त
7 अनवरत योजना (Rolling Plan/जनता प्लान) 1978-1980 रेगनर्स
8 छठवीं पंचवर्षीय योजना 1980-1985 गाडगिल मॉडल ऊर्जा और कृषि, गरीबी निवारण 5.2% 5.66%
9 सातवीं पंचवर्षीय योजना 1985-1990 गाडगिल मॉडल ऊर्जा, पर्यावरण 5% 6%
10 वार्षिक योजना 1990-1992 योजना विहीन आर्थिक उदारीकरण की शुरुआत
11 आठवीं पंचवर्षीय योजना 1992-1997 जॉन डब्लू मिलर मानव संसाधन 5.6% 6.7% निर्यात पर विशेष बल
12 नवमीं पंचवर्षीय योजना 1997-2002 प्रणब मुखर्जी फार्मूला न्यायपूर्ण वितरण एवम् समानता के साथ विकास 6.5% 5.4%
13 दसवीं पंचवर्षीय योजना 2002-2007 प्रणब मुखर्जी फार्मूला रोजगार, ऊर्जा, सामाजिक अधोसंरचना एवम् सतत विकास 8% 7.8%
14 ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना 2007-2012 प्रणब मुखर्जी फार्मूला तीव्र एवम् समावेशी विकास 8.1% 7.9%
15 बारहवीं पंचवर्षीय योजना 2012-2017 प्रणब मुखर्जी फार्मूला तेज, टिकाऊ और ज्यादा समावेशी विकास 8%

दोस्तों के साथ शेयर करें

1 thought on “भारत में आर्थिक नियोजन”

Leave a Comment