मुगल साम्राज्य: औरंगजेब
मुगल साम्राज्य: औरंगजेब
Advertisement

मुगल साम्राज्य: औरंगजेब (1658-1707 ईस्वी):

  • मुगल बादशाह बनने से पहले औरंगजेब दक्कन का वायसराय था।
  • औरंगजेब गुजरात, मुल्तान और सिंध का गवर्नर रह चुका था।
  • वह मुहीउद्दीन मुहम्मद औरंगजेब आलमगीर के नाम से मुगल बादशाह बना।
  • बादशाह बनने के बाद औरंगजेब ने जनता के आर्थिक कष्टों को दूर करने के लिए राहदारी (आंतरिक पारगमन शुल्क) तथा पानदारी ( व्यापारिक चुंगियों) आदि को समाप्त कर दिया।
  • औरंगजेब ने उलेमाओं की सलाह से इस्लामी ढंग से शासन किया।
  • उसने इरानी त्यौहार नौरोज तथा हिन्दू उत्सव झरोखा दर्शन जिन्हें अकबर ने शुरू किया था बंद करा दिया।
  • औरंगजेब ने गैर मुस्लिम जनता पर फिर से जजिया कर लगाया (1679) जिसे अकबर ने भेदभाव पूर्ण समझ कर बंद करा दिया था।
  • औरंगजेब ने मुगल साम्राज्य के भीतर सार्वजनिक रूप से नृत्य तथा संगीत पर भी प्रतिबंध लगा दिया, यद्यपि व्यक्तिगत जीवन में वह स्वयं एक कुशल वीणा वादक था।
  • औरंगजेब कट्टर सुन्नी मुसलमान था।
  • औरंगजेब व्यक्तिगत रूप से ऊंचे चरित्र वाला व्यक्ति था, इसलिए उसे जिंदा पीर कहा जाता था। वह अपना निजी खर्चा इस्लामी टोपी बनाकर चलाता था।
  • सार्वजनिक सदाचार की निगरानी के लिए उसने मुहतसिब नियुक्त किए।
  • औरंगजेब के समय में मुगल साम्राज्य क्षेत्रफल की दृष्टि से सर्वाधिक विशाल था।
  •  हिन्दू मनसबदारों की सबसे बड़ी संख्या औरंगजेब के ही समय में ही थी।
  • औरंगजेब ने 1686 ई० में बीजापुर तथा 1687 ई० में गोलकुंडा को जीतकर मुगल साम्राज्य में मिला लिया।
  • औरंगजेब के समय में 1669 में राजाराम के नेतृत्व में जाटों ने विद्रोह कर दिया।
  • सिक्खों, सतनामियों तथा राजपूतों ने भी विद्रोह किए।
  • औरंगजेब ने गुरु तेग बहादुर को फांसी पर चढ़ा दिया।
  • औरंगजेब ने औरंगाबाद में बीबी का मकबरा बनवाया। बीबी का मकबरा ताजमहल की प्रतिकृति है।
  • औरंगजेब की मृत्यु 1707 ई० में हुई। उसे दौलताबाद (औरंगाबाद) में दफनाया गया।
Advertisement

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.