बंगाल के गवर्नर जनरल
वारेन हेस्टिंग्स

बंगाल के गवर्नर जनरल :

वारेन हेस्टिंग्स (1772/73 से 85)

  • 1773 के रेग्युलेटिंग एक्ट के द्वारा बंगाल के गवर्नर को बंगाल का गवर्नर जनरल कहा जाने लगा।
  • इससे पहले बंगाल, मद्रास और बंबई तीनों प्रेसीडेंसी के गवर्नर अपने-अपने क्षेत्रों के मामलों में स्वतंत्र थे।
  • लेकिन रेग्युलेटिंग एक्ट 1773 के द्वारा बंगाल के गवर्नर को बंगाल का गवर्नर जनरल पदनाम देकर उसे मद्रास और बंबई के गवर्नरों पर अधीक्षण और नियंत्रण की शक्ति दी गयी।
  • वारेन हेस्टिंग्स 1772 में बंगाल का गवर्नर बना था।
  • रेग्युलेटिंग एक्ट के बाद वारेन हेस्टिंग्स 1773 में बंगाल का पहला गवर्नर जनरल बनाया गया।
  • रेग्युलेटिंग एक्ट के प्रावधान के अनुरूप 1773 में कलकत्ता में सुप्रीम कोर्ट की स्थापना की गई। सर एलीजा इम्पे प्रथम मुख्य न्यायाधीश बनाया गया।
  • वारेन हेस्टिंग्स ने कलकत्ता मदरसा की स्थापना की।
  • प्रत्येक जिले में एक दीवानी और एक फौजदारी न्यायालय की स्थापना की गई।
  • 1772 में जोनाथन डंकन ने बनारस में संस्कृत महाविद्यालय की स्थापना की।
  • 1784 में सर विलियम जोन्स ने एशियाटिक सोसाइटी आफ बंगाल की स्थापना की गई।
  • हेस्टिंग्स के समय में ही बोर्ड आफ रिवेन्यू का गठन  हुआ।
  • प्रथम आंग्ल-मराठा युद्ध (1775-82) तथा दूसरा आंग्ल-मैसूर युद्ध (1780-80) हुआ।

लार्ड कार्नवालिस (1786 से 93)

  • लार्ड कार्नवालिस के समय में तृतीय आंग्ल-मराठा युद्ध हुआ जिसके परिणामस्वरूप टीपू सुल्तान से श्रीरंगपट्टनम की संधि (1792) हुई।
  • लार्ड कार्नवालिस ने 1793 में स्थायी बंदोबस्त व्यवस्था लागू किया गया।
  • कंपनी के अधिकारी/कर्मचारियों के व्यक्तिगत व्यापार पर रोक  लगा दी गई।
  •  कार्नवालिस कोड का निर्माण कराया। इसी के समय पहली बार सामान्य प्रशासन और न्याय व्यवस्था की पृथक-पृथक इकाईयों का गठन किया गया।
  • कार्नवालिस को भारत में प्रशासनिक/सिविल सेवा का जनक माना जाता है।

सर जान शोर (1793-98)

इसने भारत में देशी राज्यों के साथ तटस्थता और अहस्तक्षेप की नीति  अपनाई।

लार्ड वेलेजली (1798-1805)

  • इसके ही समय में चौथा मैसूर युद्ध  हुआ (1799)। इसमें टीपू सुल्तान मारा गया।
  • वेलेजली सहायक संधि की नीति अपनाई।
  • द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध  1803-05 वेलेजली के समय हुआ।
  • बेसिन की संधि 1802 में हुई।

सर जार्ज बार्लो (1805-07)

  • इसके समय में दासों के व्यापार पर रोक  लगाई गई।
  • 1806 में वेल्लोर में सिपाही विद्रोह  हुआ।

लार्ड मिंटो प्रथम(1807-13)

महाराज रणजीत सिंह से अमृतसर की संधि  (1809)।

Advertisement

लार्ड हेस्टिंग्स (1813-23)

  • 1816 में नेपाल के साथ सांगोली की संधि।
  • प्रेस पर लगे प्रतिबंध हटाए गए।
  • पिंडारियों का दमन किया गया।
  • 1822 में टेनेंसी एक्ट या काश्तकारी अधिनियम लागू हुआ।

लार्ड एमहर्स्ट(1823-28)

  • इनके समय आंग्ल-बर्मा युद्ध (1824-26) हुआ जो याण्डबू की संधि से खत्म हुआ।
  • 1824 में बैरकपुर में सैनिक विद्रोह  हुआ।
Advertisement

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.